Notice: Function WP_Object_Cache::add was called incorrectly. Cache key must not be an empty string. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 6.1.0.) in /home/sursa53/mantrakavach_com/wp-includes/functions.php on line 6078

एकादशी शुभ मुहूर्त2024-Ekadashi Vrat Vidhi- संपूर्ण एकादशी महत्व

एकादशी शुभ मुहूर्त-2024-Ekadashi Vrat Vidhi- संपूर्ण एकादशी महत्व एकादशी महत्व: सम्पूर्ण जानकारी एकादशी, हिन्दू पंचांग में एक महत्वपूर्ण तिथि है जो हर महीने आती है। इस दिन को विशेष रूप से धार्मिक और सामाजिक महत्व दिया जाता है। हम इस लेख में एकादशी के महत्व पर विस्तृत रूप से चर्चा करेंगे ताकि आपको इस विषय … Read more

भजन जरा देर ठहरो राम लिरिक्स(Jarader Thahro Ram Lyrics In Hindi)

भजन जरा देर ठहरो राम लिरिक्स( Jarader Thahro Ram Lyrics In Hindi) जय श्री राम जय श्री रामजय श्री राम जरा देर ठहरो राम तमन्ना यही है अभी हमने जी भर के देखा नही है ॥ जरा देर ठहरो राम तमन्ना यही है अभी हमने जी भर के देखा नही है भजन जरा देर ठहरो … Read more

121+फलों के नाम संस्कृत में-Fruits Name In Sanskrit

121+फलों के नाम संस्कृत में-Fruits Name In Sanskrit फलों के नाम संस्कृत में: एक अद्वितीय और शिक्षाप्रद जानकारी यदि आप संस्कृत की सुंदरता और धरोहर को समझने की कोशिश कर रहे हैं, तो फलों के नाम संस्कृत में एक महत्वपूर्ण विषय है। संस्कृत, जिसे देववाणी भी कहा जाता है, भारतीय सभ्यता का महत्वपूर्ण हिस्सा रहा … Read more

अग्निवास विचार एवं हवन विधि-Agnivaas Evam Havan Vidhi In Hindi

अग्निवास विचार एवं हवन विधि-Agnivaas Evam Havan Vidhi In Hindi हवन एक पवित्र आध्यात्मिक क्रिया है जो हिन्दू धर्म में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह एक धार्मिक अनुष्ठान है जिसमें यज्ञ के द्वारा भगवान का आदरणीय नाम सादर किया जाता है और विशेष आहुतियाँ दी जाती हैं। यह आध्यात्मिक समृद्धि और मानसिक शांति का अद्वितीय … Read more

संपूर्ण स्वयंभू स्तोत्र संस्कृत में-Sampoorna Swayambhu Stotra

संपूर्ण स्वयंभू स्तोत्र संस्कृत में-Sampoorna Swayambhu Stotra श्री आदिनाथ जिन स्तुति स्वयम्भुवां भूत- हितेन भूतले, समञ्जस-ज्ञान-विभूति – चक्षुषा । विराजितं येन विधुन्वता तमः, क्षपाकरेणेव गुणौत्करैः करैः ॥ १ ॥ प्रजापतिर्यः प्रथमं जिजीविषूः, शशास कृष्यादिषु कर्मसु प्रजाः । प्रबुद्धतत्त्वः पुनरद्भुतोदयो, ममत्वतो निर्विविदे विदांवरः ॥ २ ॥ विहाय यः सागर-वारि-वाससं, वधूमिवेमां वसुधा-वधूं सतीम् । मुमुक्षुरिक्ष्वाकु कुलादिरात्मवान्, प्रभुः … Read more

श्री दुर्गा चालीसा अर्थ सहित-Sri Durga Chalisa Lyrics In Hindi

श्री दुर्गा चालीसा अर्थ सहित-Sri Durga Chalisa Lyrics In Hindi दुर्गा चालीसा, माँ दुर्गा की पूजा के दौरान गाई जाने वाली एक प्रमुख भक्ति गीता है। इसमें माँ दुर्गा की महिमा, शक्ति, और कृपा का गान किया जाता है। यह चालीसा माँ दुर्गा के प्रति भक्तों की श्रद्धा और विश्वास का प्रतीक है और इसे … Read more

सुख समृद्धि के लिए हनुमान मंत्र-Hanuman Upasna Mantra Vidhi-तांत्रिक विधि से करें हनुमान आराधना

सुख समृद्धि के लिए हनुमान मंत्र-Hanuman Upasna Mantra Vidhi-तांत्रिक विधि से करें हनुमान आराधना हनुमान आराधना: हनुमान आराधना, भारतीय संस्कृति में एक महत्वपूर्ण और गौरवशाली परंपरा है। इस धार्मिक प्रथा का महत्व और इसके पीछे की कहानी हमारे इस लेख में हैं। हम इस लेख में हनुमान आराधना के महत्व, इतिहास, और पूजा की विधि … Read more

हनुमान चालीसा चौपाई अर्थ सहित हिंदी में-Hanuman Chalisa Lyrics In Hindi

हनुमान चालीसा चौपाई अर्थ सहित हिंदी में-Hanuman Chalisa Lyrics In Hindi हनुमान चालीसा:एक अद्भुत धार्मिक और आध्यात्मिक ग्रंथ हनुमान चालीसा का सुंदर बचन जब भी सुना जाता है, तो व्यक्ति के मन और आत्मा में एक गहरा आध्यात्मिक अनुभव होता है।हनुमान चालीसा चौपाई अर्थ सहित हिंदी में-Hanuman Chalisa Lyrics In Hindi इस चालीसा का पठन … Read more

200+Kathin Shabdarth In Hindi-कठिन शब्द एवं उनके अर्थ हिंदी में

200+Kathin Shabdarth In Hindi-कठिन शब्द एवं उनके अर्थ हिंदी में 1.रौद्र रूप -कठोर रूप उदाहरण: मुझसे भैया का कंप्यूटर टूट गया, यह सुनते ही भैया ने रौद्र रूप धारण कर लिया। 2.घोंघा बसंत-मूर्ख उदाहरण:सेठ ने अपने कर्मचारी से कहा तू एकदम घोंघा बसंत है। 3.सत्कार-सम्मान उदाहरण:बारात की आने पर लड़की वालों ने सेवा सत्कार किया। … Read more